Words can create magic and I want to get lost in them for some part of each day.

December 25, 2011

Living Up and Counting Down !

Ah the Countdown has begun !
To the celebratory  Paroxysms of  Fun...

Christmas followed by New Year 
There will be Excess of Food ,Wine and Good Cheer 

A whirl of eating ,buying ,meeting 
Gifting , merry- X-masing and New Year Greeting :)

Scrambling to cross the line of 2011 
In glitzy malls and shiny Consumer Heavens.

Tinsel trinkets will glow and glitter 
And next day forlornly lie in litter.

Cakes,cookies , Chocolates will Dissolve 
Jeeringly your Pious Resolves .

A Drink or *few* will add to Confusion
Bury the last year : lets have another New Year, one more Resolution :))

December 16, 2011

पुरानी दिल्ली .

On one of my frequent trips to Delhi ,I was staying close to Turkmaan Gate and decided to take a Rickshaw into the timeless bylanes behind it.It was early morning -the crowds were less enough for us to walk up to  Jama Masjid, discover Ghaalib's Haveli and a few of the grand Havelis of yore .Find gallis like galli Mem Waali , galli बूढी दाई waali and so on.The remains of the midnight flower bazaar could be seen and the business was brisk in the produce market -fruits ,veggies and meat for the Gourmet Hot Spots was being bought. There is nothing as quintessentially Indian and as quintessentially multicultural and secular as Chandni Chowk. Kasam se !!
हाय !
इक सुबह 
वो इत्तेफाकन मुलाक़ात
पुरानी दिल्ली से 
गोया किसी बुज़ुर्गा की झुर्रियों में 
झलकती जवानी देखना !
गुत्थी भी है ,पहेली भी है 
हंस कर कई राज़ ज़ाहिर करने वाली सहेली भी है.
आज के मुंह में पाँव फंसा कर खड़े बीते हुए कल की तस्वीर
और गली-कूचों में रुके हुए ज़मानों की तहज़ीब .
रिक्शे,ठेले ,बुर्के , लाले ,हलवाई :
फूलों के  बाज़ार ,कबूतरबाज़ , कसाई
धूप में ऊँघे बूढ़े ,बिल्ली और लाल ढाडी वाले मिर्ज़ा भाई .
वो ऊँची सीढियां जामा मस्जिद की ,वो कबूतरों से अटी मीनारें
जहाँ से पुरकशिश नज्ज़ारा  दीखता है इस तारीखी शहर का :
कभी जमुना यहीं पास थी और लाल किला  आबाद था.
वो अंधेरी गलियों में छिपी बड़ी हवेलियाँ
जहाँ शायद ग़ालिब की रूह अभी भी बसती  होगी
और  इस दौड़ती -भागती दुनियां की नादानी पे हँसती होगी.
पुरानी है : पर माशाल्लाह !  क्या गज़ब की रवानी है !!

November 30, 2011

वो प्यारी जगह ...

सुबह के धुंधलके में या
रात खत्म होने के झुटपुटे में ,
नींद और ख्वाब के बीच
डोलते हुए जो जगह है
उसमे  रहती हैं -
कई उम्मीदें ,कई ख्याल
प्यारी यादें ,झिझक  से परे -
निश्चय , और उधेड़ - बुन  से दूर
साहस  और विश्वास 
उस प्यारी जगह
को संभाल कर रखना
शायद सच वहीँ है
जो  हम  तेज़ रौशनी में
और अँधेरे सायों में
न  देख , न  समझ पाते  हैं .

एक सुबह कोहरे में .

टपक रहा सब  बूँद -बूँद -
सोये पेड़ अब तक आँख मूँद
मुट्ठी  भींचे  सेवंती खड़ी है
कोहरे की चादर पड़ी है
एक गीला सा धुआं हैं ?
या किसी तडपे दिल की बद्दुआ है ?
एक ठंडी - ठंडी साँस है
कुछ खोने का अहसास है -
ठहरी हुई  सी दिल में बात है
सूरज अंधेरों के साथ है

झांके धूप तो सब मुस्कायें
राज खोलें , खिल -खिलाएं .

November 24, 2011

हिसाब - किताब .

हिसाब  खताओं  के  ही  रखे  जाते   हैं , यारों  की  किताब  में ;
वफ़ाओं  की  दीमक - ज़दा  किताब  के पन्ने  खोले  कौन , गिनाए  कौन ?

November 21, 2011

I love a Calm Sunset. .

Some evenings :
There is no Drama on the Horizon :
No vivid Streaks of Violet
Juxtaposed against a brilliant orange
No fluffy white clouds glistening with Gold
No rising,melting ,unfolding , descending ;
Just a gradual fading -
Of  pale blue to dull gray to inky black.
It may not please the cameras -
Or overwhelm .
But you know what ?
It still soothes the soul.

November 2, 2011

Tin Sheds.

Tinsheds
Catch Beams
And Glint
Pretending to be
Houses
But can

Protect Against
Neither Heat 

Nor Cold
Nor Storm
Only Lull
You into

A Foolish
Notion Of
Feeling Safe .

October 17, 2011

मौसम के मिजाज़ .

अक्टूबर  का महीना 
कितने सधे हुए हैं मौसम के मिजाज़  :
धूप की तल्खियाँ  कुछ कम 
हवाओं के रुख भी नर्म 
कुछ ठंडक का अहसास है भी , और नहीं भी 
कुछ  गर्माहट की याद है भी  ,और नहीं भी
कुछ अगले मौसम के वादे
कुछ बीती रुत की बातें 
अभी सब नपी-तुली सी 
हैं भी पर नहीं भी.

October 3, 2011

डर.

डर  -
मैं  इस  जुमले  से बहुत घबराती थी.
अंधेरों में मिलती थी-
तो सकुचाती थी .
पर आज जो दिन की खुली धूप में मिली -
तो सोचा,
जो नाखून और दांत मेरी बंद आँखों ने , डर पे सजाये थे ,
वो तो मेरी ही  देन  थे .
 मैं ही उसे पाल-पोस कर बड़ा कर रही थी.
फिर अपने बनाये खिलौने से डर रही थी .

September 23, 2011

क्यों है ?

न कोई आहट ,न पुकार ,न निशाँ तेरा 
फिर भी खामोश पानी और गहराते सायों में तेरा गुमां क्यों है ?

ज़ुदा  हैं राहें ,ज़ुदा  मंज़िल ,
 तेरे ज़िक्र पर फिर भी कुछ अब्र और धुआं क्यों है ?

September 20, 2011

Digging .

I have dug Deep.
And turned the Soil Over.
Cast away the Stones.
Look - there are Fresh Furrows Now
No longer Compacted and Impervious
Ready to suck in Life Breath
To Hold Air and Water
To Take, and to Give Back
Seeds into Fruits
I will work Hard
Water and weed
I think the Yield will be Good
From this Well-tilled Heart.

September 5, 2011

Orchids.

I like the way you hang the pictures.
Each with a little Bulb underneath.
To make them Glow with life.
It's True :
With the Right Lighting -
The Walls Speak to each Canvas.
The ambience is Perfect.
Yet, for the Dark Hours -
When the lights flicker out,
When everything simmers unspeaking
And Assumes Frightening Shapes and Proportions,
Devouring all Voice and Reason.
We must always keep some Orchids -
Exuding Exotic Fragrance -
A Promise to Stay By -
Till the Sun is out Again.

September 3, 2011

खूबसूरत कहानी .

गयी रात
अमावस के बाद
हौले से मुस्कुराते हुए
चाँद की रात थी
छिटके सितारे भी सुलग रहे थे
चांदनी धुआं-धुआं थी 
एक अहसास कि ..
जैसे भटकती किसी प्यास को पानी मिल जाए
भूले से किसी गीत को मानी मिल जाए.
वो तड़प जिसके खोने की भी न थी हमको खबर
यूं ही किसी मोड़ पे  दामन सी लिपट जाए
तो क्योंकर न इक खूबसूरत सी कहानी बन जाए ?

August 14, 2011

कविता और मैं .

 पीपल बांहों में चाँद का गोला लिए चुपचाप खड़ा है.
 गए साल इसी हाल में उसने मुझे एक कविता दी थी.
 उस कविता से निकली और फिर और ..
 मगर लगता है
 लफ्ज़ जो साँसों में अटके रहते हैं
 कभी बाहर आने से बदल जाते हैं
 सबसे बेहतर वही कविता रही
 जिसे मैं कह नहीं पायी.
 पर किसी दिल ने फिर भी उसे सुन लिया.

August 10, 2011

कदमकुआं की कोठियाँ.

अब भी मालूम पड़ता है 
की बड़ी शानदार रही होंगी 
 ये कदमकुआं  की कोठियां 
वो लाल पत्थर के लम्बे बरामदे 
 वो हरे बांस की  जालियां
सफ़ेद खम्बों से लिपटी  चमेली 
Porch तक आते गोल  रास्ते
खड़ी होती होगी जहाँ एक गाड़ी
सामने एक सूखा  फव्वारा 
जो कभी इस उजड़े Lawn की शान होगा .

 कुछ इस शहर की तरह ही
 जिस के हर  गली चौक बाज़ार में 
 बिखरे हुए हैं जहीनों के नाम 
कहीं टूटा -फूटा दिनकर गोलंबर 
कहीं सच्चिदानंद सिन्हा लेन .
वीरान सी रामवृक्ष बेनीपुरी लायब्रेरी 
गड्ढों वाले  अज्ञेय और सांकृत्यायन मार्ग .
 कभी ये अज़ीम इस शहर में बसते थे.
गंगा किनारे बैठ के लिखते , गप-शप करते थे.
बेल और आम से सजी सड़कों पे शिरकत करते थे .

 अब तो बस गंगा है -
 कुछ कम बड़ी, कुछ ज़्यादा मैली .
और ये खंडहर होती हवेलियाँ .
इस अनेक गाँव वाले पुराने शहर के अतीत की  निशानियाँ .

August 9, 2011

Let us be Comfortable.

Rains Well  Up
Behind The Dark Clouds.
A pent-up Torpor reigns
Things Blocked,broken ,Held up
Rusty swings, Unending queues and Traffic Jams
Dams Of Sweat Break loose.
Sucking Energy
Faster than
Quicksand 
The Ripe Monsoon Air
Hangs like a Sigh .
A Desperation
That can not Cry.
Let us not Notice
And turn the Airconditioning High.

August 5, 2011

Circulars Are Circular.

We have
Empowered
Specially A Group
To give Integrated Inputs
And to Develop Policy Perspectives
Strategic and Futuristic .
In Our Way Forward
We must meet Tomorrow Today.
Human Resources are Paramount
Personnel Management is the Sparkling Fount.
So Kindly  Presently Suggest 
Ways and Means For 
Spreading Motivation through
Recognition of Work.
Keep in mind that
This is Separate from
Though not Exclusive Of 
The existing schemes for 
Reward, Appreciation, Acknowledgment Of Merit ,
Morale Building And Awards of Excellence.
All Applicable Rules Regulations Ceilings Criteria
GOI decisions thereunder and Rulings thereof Inter alia ,
may be adhered to , and Consensus arrived at
before forwarding-
Through Proper Channel Please
with Prior Approval Of
The Competent Authority.

August 2, 2011

Hina Rabbani Khar.


Hina Rabbani Khar.
Will go very Far.
She knows when to flash pearls and when to act petulant .
And how to skip Stilettoed through Foreign Policy non-Statements.
Juxtaposed against the doddering and the Dour.

July 16, 2011

Tantrum.

You say your Tantrums
 are  a part of love
But My dear 
I am not cellophane wrapped pink Lollypop.
and You -
are not a four year old.
And if it counts more
than my Unshed tears 
Remember :
People snigger -
At grown-up men
fond of playing 
the Tiger Pantomime.

July 9, 2011

Two for the Monsoon Skies.

Tilting Grey-Black Clouds
Over flat green fields
Drama comes from
Daubs of Indigo 
And Streaks of Silver
lighting up the
Sky's Grey Sea.
----------------------------------------------------------------------------
A Petulant Sun
throws Tantrums and
tries hard to push
the Great Black Beasts away.
Clouds frolic.Laugh.And Encase him - yet again.

The Mother.

Itthe pyar da dudh
ubal -ubal ke dhuli jaaye
dhuan uthae te bekaar jaaye
othhe loki kehande han
saanu ki lod ?
assi dudh nahin santre da juice peevange.

The Milk Of Her Love
Boils Over ,Gets Burnt and Wasted
While they say of what use is it to us?
We rather prefer jus' d orange.

July 3, 2011

Balancing Books.

She measures well
all that is measurable
puts labels and amounts
on that which is not                                                                      
Counting in neat stacks 
Ticking off items 
Weighing all the stuff
Taking in before any Giving
Ounce for an ounce
Making the right Deductions
It is Excellent Management
All that toting -
And Balancing of Books.
The Neat Ledgers of Squared Deals.
But in her Accounts
All that is left on Credit
are Gripes and Regrets
Each debited neatly against
A small piece of her Peace Of Mind.

July 2, 2011

तड़का .

खौलते तेल में पानी की बूंदों सी 
अजब ज़ुबां रखती है वो -
उचटते रहते हैं लफ्ज़ उसके, 
दिमाग में देर तक-
कान में छाले पड़ जाते  हैं,
दिल से धुंआ सा उठता है .
चिलकन आँखों में देते हैं . 

जाने कब से उबल रही होगी ?
तड़कने को फड़क रही होगी?

July 1, 2011

भोर से पहले .

जब सुबह  की  आमद  होने  को  हो 
रात  कुछ थमी सी हो
वक़्त के उस खामोश पहर में 
अहसास होता है खुदा का 
लगता है कि  मैं  कुछ भी नहीं 
बस एक अदना सा हिस्सा हूँ 
उसकी  लाजवाब खुदाई का.
दिल थाम के ,कभी ,
तो कभी coffee का कप थाम के -
सुबह होने से पहले ,खिड़की पे खड़े ,
ये अहसास होता है.
और खिड़की पर बिछी मालती की खुशबू 
कहती है हाँ , हाँ कहता है 
रुखसत की तैयारी  करता 
हंसिये की धार सा चाँद 
अपना  दूधिया बिछौना  लपेटते हुए,
सुबह के तारे को अलविदा कहते हुए.
रात की सांस धीमे -धीमे जब जाने को हो
लेकिन सूरज को देर अभी आने में हो.

June 26, 2011

तूफ़ान .

सर-सर, फर-फर ,ढम-ढम ,ठक-ठुक
अब तक सूरज जीत रहा था,आज तूफ़ान की बारी है.
गुबार ,रेत, करकट को  उठा 
घुमा- घुमा , पटक के गिरा .
कल तक हाथों में हाथ डाले जो हवा
शाखों को प्यार से झुलाती थी 
गुस्से में उनसे लड़ती है 
फड़कती है ,अकड़ती है.
गहराते है बादल ,गिरती है बूँदें
हंटर की तरह बिजली कड़कती है.
ये तूफ़ान किसी अल्हड़ का फूटा गुस्सा है 
भड़क के,  झिंझोड़ के , तोड़-फोड़ के भिगोयेगा  .

एक कौआ और .

घटायें यूं घिरी 
की रोक न पाया 
जम के नाचा और नहाया 
पंख चिपकाए, सफ़ेद गर्दन दिखलाए 
मुफ्त में सबको खूब हंसाया !
अब मुंडेर पर बैठ के 
खुद को सुखाता है कौआ
झटकता  है पंख , कभी फुलाता है कौआ .
फिल्मी हीरोइन की तरह इतराता है कौआ
सावन का मज़ा असल उठाता है कौआ .

मेरे घर की सड़क .


मेरे घर तक जाती थी 
पुराने पेड़ों से ढंकी इक सड़क 
दोनों ओर आती थी कभी अमराइयों से 
पकते  आमों की महक .
और दीखता था  कभी 
धानी चादर वाले खेतों में लहकता कनक.
हर बूढ़े पेड़ के नीचे थे 
लोगों के छोटे से बसेरे 
और मामूली सी चीज़ों की मामूली सी दुकान
फूल वाले,सब्जी वाले ,फल वाले -
पंचर भाग्य हो या साइकल उसे ठीक करने वाले   
तंग हो भी तो ,संग-दिल नहीं थी वो सड़क -
दोस्ताने भरे चेहरों की कड़ी थी वो सड़क 

पर अब ज़िन्दगी दोस्ताना नहीं रफ़्तार मांगती है 
साइकल और स्कूटर नहीं कार मांगती है 
हर वक़्त खरीदने के लिए बहुत सारा सामान मांगती है.
शायद इसीलिए हो गयी है मेरे घर की सड़क 
अब हो गयी है इक अनजान ,बेजान सी सड़क 
पेड़ों से,दोस्तों से , हमराहियों से वीरान सी सड़क.
है वो अब बहुत चौड़ी,आलीशान सी सड़क 
शीशे के महल-नुमा malls पे मेहरबान सी सड़क.

June 13, 2011

Crow -II.

A Crow does not know
that he looks lowbrow
Or that where other birds Chirp 
He Caws -the raucous Twerp !
But  even if he did
It wouldn't ruffle him a bit
for- prettiness ain't much fun
more of a Bird-en, Pardon the pun.
So why judge him by his colour or his cries.
His mien is Worldly and Wise .
Look at that streetfighter Style
The no-holds-barred Guile.
He is the ultimate Anti-Hero
Swashbuckler Macho Crow!
He holds Court and he holds Sway
He is the over- lord ,Just Obey.

June 11, 2011

Crows.

Crows in the Courtyard
Sitting in a row.
Crows in the Courtyard
Hopping to and fro.
Making plans,gossiping away.
Shouting,shrieking and holding sway.
Rebuking each other like seasoned hags.
Having honed the art of put-downs and nags.
Getting ready to dive,
or to Chastise- any passer-by.
And all of a sudden they fly-feathers explode!
The Glistening Black of a metalled road.

May 27, 2011

Summer!

I
Swaying neem trees,scorching heat.
Rending the stillness,Koel's cry sweet.
All else droops,sags,sleeps.
II
Swirling dust,heat-crazed noon,
Parched earth,Jasmine blooms
Over unripe mangoes,Children swoon.
III
Roads shimmer and melt
Taps run dry ,Tankers ply
Holiday for school,holiday for water .

May 23, 2011

The Peacock .


Sauntering on a Morning Walk
I chanced upon a dancing Peacock.

The Peacock is an Aristocratic pheasant
Who wears the Jewels his wife doesn't .

In matters of Dress,
He leans towards Excess.

He may be loud in voice and loud in colour
Yet, reduces you to a hapless Bird Ogler.

He carries all the glitter off
Without looking like a garish toff.

Nods his head with a strut and a swagger.
Quivering mass of turquoise,emerald and azure.

Like some Ornithological Celebrity,
He unwraps his feathers for all to see.

A display to Dazzle
As he sashays in a Circle.

What a Pose ! What a Stance !!
Send him to set afire the Red Carpet in Cannes !

May 10, 2011

तपिश के फूल.


नर्म  हवाओं ,हसीं  फ़ज़ाओं की आस 
दरकिनार करते हैं ,गुलमोहर,ज़कारंदा,अमलतास .
कहीं बोगुनविल्ला, मालती इठलाती 
मोतिया,चंपा, चमेली, बल खाती. 
जब हर ओर उड़ती है धूल
तब भी खिलते हैं ये चंद  फूल .
बिन बगिया ,माली, पानी के सहारे 
ये पेड़- नुमा गुलदस्ते, शायद खुदा ने खुद सँवारे. 
तपती धरती के सुलगते माथे पे -
रंग -ओ- बू  का एक हल्का सा आँचल तो हो.

May 9, 2011

Eucalyptus Obnoxious.


The mozzies hate it,
The Ozzies love it.
But I get rather tight-lipped
When I see the silver-barked Eucalypt.

I detest the way its (non) branches sway in the breeze
An anti-tree - a blot on all trees.
No shade,no shelter,no fruit,no food.
Acid buds fall where mango and neem once stood.

It spites the soil on which it grows
Turning arid fields and meadows.
Water sucker, pernicious-
Revels in monoculture obnoxious.

It grows fast,It burns fast
It kills other flora ,but lasts and lasts.
I often think, the Eucalyptus -
Is an embodiment of some Botanical Grudge or Animus.

May 8, 2011

ख़ास खबर .

 बारिशों  में  सब्ज़ शाखों का मचलना ,
बसंत में शोख कलियों का चटकना,
बहुत दिलकश ज़रूर- पर कोई ख़ास खबर नहीं.
मगर अंगारों पे से गुजरी हुई इन गर्म हवाओं के आलम में 
सुर्ख गुलमोहर के फूलों का दहकना
साल-दर-साल मुझे  चौंकाता है.  
प्यासी धरती , सुलगते उफुक पर 
कुछ रंग-ओ-बहार छलकाता है.

April 19, 2011

Celestial Showstopper.


O Peach Moon hanging low -
While the shrill lapwings peewitoh ..
You know how to turn on the heat
How to make hearts skip a beat.

Here you appear a glowing coppery disc
And there a grey cloud floats waving its fly-whisk
Teasing , showing,halting,hiding is an Art -
you know well, as you weave in and out of clouds in parts.

The football players ,the cooling down athletes
The chattering girls with inflections high and sweet
All pause,hush and stare :
The translucent nimbus gates open and declare...

The Celestial Showstopper is back again.
Naughty,haughty ,High Octane !

April 8, 2011

मैंने उसे देखा ...


रेल की खिड़की, सुबह के सात बजे :
अधपकी कनक के खेत,
ओढ़े कोहरे की हलकी चादर .
घनी डालों वाले नाटे पेड़ 
बिखरे हुए थे इधर-उधर.
सब अनमने, अलसाए ,
कुछ जागे,कुछ सोये से .
बादलों का कफ़स तोड़ के 
सूरज तभी निकला और -
नूर का एक सुनहरा जाम छलका दिया .
कोहरे को चीरती हुई रौशनी का वो मंज़र :
खुदा नहीं, तो क्या था ?

April 7, 2011

The Trail.


It was a happy trail of Childhood days
It gave me  myriad ways
Of transporting myself  to a mysterious world
Where between thick tree trunks -mossy, emerald
Grew wild flowers and tall grass -
A splendid refuge for a  lonesome lass.
Everything -a forlorn Ruin  ;
Sparkling Kingfisher diving in-
the muddy canal ,buzzing with insects 
Or a Rhesus monkey with disdainful aspect
A flight of peacock ,a sudden stream ;
A glint of Colour,a dancing sunbeam.
Were my secret sources of Wonder and Joy
My ploys for Adventure Ahoy!

March 29, 2011

गर्ल्स हॉस्टल के मोर !

Girls hostel की दीवार से सटे 
इमली के बूढ़े दरख्तों में 
कुछ मोर बसेरा करते हैं.
हर शाम कमरों तक पहुँचती शाखों पे -
कलगी तान ,पंख झुला,
एक सुर-ताल में आलापते हैं .
मेओ-मेओ या मैं हूँ मैं हूँ ?
शायद उन में 
गुज़रे मजनूओं की रूहें बसती हैं !!

March 25, 2011

तरकीब कोई ..

थोड़ी गीली मिटटी 
कुछ भोर की ठंडक 
या हरी दूब नम सी -
बारिश की बूँदें हों ,
चांदनी मद्धम सी.

शबनम के कतरों वाले 
हों अधखिले  गुलाब  ,
नहीं तो ,पत्थर में से फूटे
मीठे पानी का झरना कोई .
माथे के बल 
बने होठों की हंसी ...

कुछ इंतज़ाम करो -
रेत की आंधी जैसी ये नाराज़गी 
कभी आँख सूजाती है ,
कभी दिल जलाती है.
बहुत सताती है.
इसे तमाम करो.

March 24, 2011

जेठ की तैयारी .

देखो तैयारी  में हैं सब पेड़
जेठ के साथ ज़ोर-आज़माइश  की.
बेल,साल,नीम और पीपल 
अशोक,इमली और सेमल.
उतार रहे पुराने पत्तों के पैरहन 
अब नए सब्ज़ दोशाले ओढ़ कर 
सर-चढ़ी धूप के नश्तर तोड़कर 
झुरमुटी छाँव के घर बनायेंगे
हर पंछी और राहगीर को बुलाएँगे .
कितने दूरंदाज़ और खुद्दार हैं पेड़ !

March 15, 2011

घूमते जंगल .

बांधवगढ़ -ताला वन .
ये   दूर  तक  फैले बेतरतीब से जंगल 
कमाल लगते हैं करीब से जंगल .
जिनमे गदराये शीशम ,सुलगे पलाश 
गुत्थम-गुत्था घास ,उलझे-उलझे बांस .
बूढी लताएँ लपेटे ,तने-तने से साल -
सेमल,बीजा ,बेल;महुआ,बेर और आम .
बड़े पत्ते ,सूखे पत्ते, हरे-पीले -लाल पत्ते .
काले तने ,भूरे तने ,सफ़ेद चांदी वाले तने .
नरम,नए कोंपल  वाले ;अधपके से पतझड़ वाले.
बौर वाले ,फूल वाले ,खट्टे -मीठे फल वाले .
टेढ़े -मेड़े,झुके,लटके,एक दूसरे से सटे पेड़ .
गिरे पेड़,खड़े पेड़ ,पानियों में पड़े पेड़. 
डाल-झुरमुट-छाँव वाले पंछियों के गाँव वाले. 
जड़े जिनकी धरा पकडे, आसमा में ठांव  वाले.
पत्थरों में भी झूमते हैं - रास्तों संग घूमते हैं .
मैंने घूमा जंगल ,अब जंगल दिल में घूमते हैं.

March 6, 2011

Portrait of Vikram Seth.



A whiff of yearning and romance
Loss,loneliness - memories that linger
Vikram's magical pen is like no man's
Lyrical sonnets drip off his fingers...
Gentle watercolours of words
leading - even the philistines towards
A heart more appreciative
of subtle phrases which hold one captive
to his stories of everyday profoundness.
Shining the light on what we see and know
but still remains unsaid ; till a Vincent Van -Gogh
Puts it on a canvas with astounding finesse.
What wit and heart,what turn of phrase!
What Joy to behold such cleverness with such Grace !!

February 14, 2011

New Bee.


Look here is a new bee
Feeling quite happy
That her buzz was heard
In all the clamour of  words
But mostly because her humble tableux
Got noticed sans any quid pro quo.
Though no point in boasting in my own Backyard..
Thanks Blogadda -for the award !

February 10, 2011

Portrait of Gulzar


इक सोने से   दिल को
वक़्त के सांचे में खूब पकाओ

चाँदी से पिघले लफ़्ज़ों का
फ़िर महका हुआ वर्क चढ़ाओ

प्यार के मीठे बोल ,खट्टे ग़म
नीम सी यादें कुछ मिलाओ 

सुबुक अहसासों का सोता बने फ़िर -
जो कह न सके कोई, उसे पढ़ कायल हो जाओ

उस दिल से निकली हर  बात
से भर जाओ ,पर न भर पाओ.

February 7, 2011

Oooh Eggs !


Fried Eggs
Fried eggs
With lacy brown edges
Somewhat tattered -
With a Sunshine heart
That oozes with cheesy,buttery
Warmth and Goodness.
Just an Egg. 
I am just an egg
I get addled,scrambled .
You can break my heart easily
Turn me to mush.
But when the heat is on:
I  can stand it with aplomb,
Know anyone who can
be cracked , coddled, but still remains whole :
without whom you can not start the day ?

February 6, 2011

एक बात .

पुराने दरख्तों की जड़ों की तरह ,
तुम्हारा प्यार दिल में घर करता है -
यूं तो यह कोई बोलने की बात नहीं-
सिर्फ महसूसने की है -पर गर जानना चाहो तो.
बावली सरसों के पीले खेतों की तरह
अचानक कभी जब झूमता है मन, तो
गीत वही गुन-गुनाता  है जो खेत को
चूमता  हुआ  दरख़्त भी गाता है .
कई बार जो , बेबाक
उपर से दीखता नहीं, 
आसानी से उखड़ता भी नहीं.

February 1, 2011

मेरे कमरे में एक हाथी है ...

भ्रष्टाचार को जड़ से मिटा डालो
मोर्चा,धरना,रैली निकालो.
आज हम सभी ने यह ठाना है -
पर भ्रष्टाचार के घर का पता किसे बताना है ?

हम तो ईमानदार हैं
इसीलिए अपने अन्दर झाँकने से कतराते हैं
आँखों के आगे ईमानदारी का खून होता देख मुंह फ़ेर चुप रह जाते हैं .
पर भाषण ,बहस और वार्ता में भ्रष्टाचार को गाली दे फूले न समाते हैं.

धर्म,भाषा,जाति का उन्माद  हमें लाख तोड़ता रहे ,
भ्रष्टाचार कलमाडी,  रेड्डी ; राजा,  राडिया को जोड़ता है !!
या यूं कहें कि सत्ता के बाज़ार में
काला धन छाती ठोक के बोलता है ?

Zephyr एक बहुत संजीदा ब्लॉगर हैं और उन्होंने भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज़ उठाई है http://voteforindia.org/.
क्या आप उनका साथ देंगे ?

January 23, 2011

भोपाल .

कभी इस शहर के पेड़ इसकी सड़कों से इश्क किया करते थे.
झूम के उन्हें अपने सायों के आगोश में भरा करते थे .
हर सड़क पे  इक खुशगवार सा मंज़र रहता  था -
कभी  रंगों और खुशबू का और छाँव की फैलती बाहों का .

लेकिन अब हर गली-चौराहे पे ,लाशें बिछी हैं -
बूढ़े और जवान पेड़ों की ,सब औंधे मुंह पथराई आँख देखते हैं.
मैंने देखा- JCB राक्षश के पीले जबड़े ,बूढ़े बरगद की बेइंतहा जड़े कुरेद रहे थे.
ओर पुराने नीम के ढेर ,चिता की लकड़ी की तरह सजे थे ,सड़क किनारे.

अब यह शहर तरक्की कर रहा है,और तरक्की पेड़ों से नहीं,
अजगर जैसी जानलेवा सडकों से होती है -जिनके पेट कभी भरते नहीं.
अब तो खाक उड़ती है ,और गाड़ियाँ भी -पंछियों को परवाज़ मगर नसीब नहीं.
कोह-ए-फिजा और ईदगाह से हो कर जहन्नुम की सड़क गुज़रती है यहीं से कहीं.

रात को देखा , बुझते कोयले जैसा मद्धम चाँद टंगा था ,शर्मिंदा सा
इक सब्ज शाख भी न मिली जिसे , अपना खिलता रुख छिपाने को.

January 18, 2011

Food Porn.

Some light-hearted moments of deliciousness !
Guavas
One fat, yellow guava 
Rightly ripe : sits on my desk.
Aching to burst its sweetness
Into my hungering mouth.
Scented , pink-fleshed tempter ,
I savour every moment of you.
The best I ever had .
Oranges
I so love oranges.
The dimpled lush body
belying the piquant heart.  
The heady smell ,
so clean,yielding to
my eager fingers; juice
running down my chin .
Chocolat.
Take me for a walk
dear dark Chocolat .
When I see you , I can hardly think
Your aroma fills me -
Your bittersweet taste lingers.
Edgy and divine : like first love.

January 12, 2011

अहा ! तपिश .


कल कई दिन बाद सूरज खुल के मुस्कुराया
तो दिल गुन-गुनाया ,
ये ख्याल  आया-
यूं तो जमे हुए दिल भी धड़कते हैं,
पंछी धुंध में भी पर फड़कते हैं .,
फ़िर भी थोड़ी तपिश हर रोज़
life में कितनी ज़रूरी है .
उगने के लिए,
बढ़ने के लिए,
खिलने के लिए,
खिल-खिलाने  के लिए .
नहीं तो बेवजह लगता है कुछ कमी सी है
किसी से कोई शिकवा भी नहीं,पर मौसम में ग़मी सी है.

January 6, 2011

कोहरा.


पेड़ लगे हैं सोये-सोये
दूर ख्यालों में खोये-खोये.
हवा नम है - उजाले कम हैं.
एक झीनी चादर मलमल की-
थोड़ी भीगी-भीगी सी.
डली है हर ओर.
ओढ़ के झांकें
ओट से ताकें
बदल के रूप
छिपे -छिपाएं.
खेलें सौ-सौ खेल.
कभी बुत
कभी भूत
कभी बस धुआं-धुआं.
धुंध का गहरा कुआं.
मुंह छिपा कर ज्यों पूछें बच्चे
- बोल माँ-बूझ मैं कौन?
मैं कहाँ ?
-कोहरे में,
मौसम की मासूमियत-
दिलकश भी है,
दिलफरेब भी,
जानलेवा भी.

January 4, 2011

Winter Haikus.

A cup of hot tea
and some empathy
diffuse :  winter blues.
-----------------------------------
Darjeeling
is appealing.
Assam-
Awesome.
Espresso 
less so.
----------------------------------------------
A toasty Tea
you will agree
is Bliss :
Green without caffeine
or a luscious Black
with a sugar and milk Jack.